baccarat là gì

baccarat là gì

time:2021-10-24 05:11:38 बेटी की उम्र 8 साल है, सुकन्या समृद्धि और पीपीएफ में से किसमें निवेश करना फायदेमंद? Views:4591

lovebet ऊ baccarat là gì 10cric साइन अप,casumo जुआ आयोग,लियोवेगास साइन अप,lovebet कोड 00,lovebet भारत में काम नहीं कर रहा है,lovebet जाम्बिया लॉगिन,क्या ऑनलाइन कैसीनो विश्वसनीय हैं?,बैकरेट मुक्त विश्लेषण सॉफ्टवेयर,बैकारेट फूलदान विंटेज,भारत में सट्टेबाजी कानूनी ताजा खबर,कैसीनो समुद्र तट,कैसीनो वेक्टर,क्लासिक रम्मी रणनीति,बच्चों के लिए क्रिकेट किट,ई स्पोर्ट्स ज़ुकुनफ़्ट,बकारट रोड का अनुभव,फ़ुटबॉल ऑड्स ट्रेडर स्पष्टीकरण,उत्पत्ति कैसीनो Quora,फ़ुटबॉल खेल का विश्लेषण कैसे करें,आईपीएल नई टीम,जैकपॉट यूटाह,मियामी में लाइव लाठी टेबल,लॉटरी 07/05/21,लॉटरी जाम्बिया,एनबीए डाइविंग रैंकिंग,असली पैसे के साथ ऑनलाइन कैसीनो,ऑनलाइन पोकर कोस्टेनलोस ओह्ने एन्मेल्डुंग,पैरामैच हॉर्स रेसिंग,कैसीनो में पोकर,असली ड्रैगन टाइगर क्रैकिंग,नियम हाथ सही,रम्मी वेरिएंट प्रश्न,स्लॉट मशीन कुंजी प्रतिस्थापन,खेल 66,स्पोर्ट्सबुक जॉब रिमोट,टेक्सास होल्डम मानोस,टोटल फ़ुटबॉल,अगर आप ऑनलाइन बैकारेट में पैसे खो देते हैं तो क्या करें?,एक्स-पोकर ऐप,ऊटी गोवा,क्रिकेट cake,गोवा घूमने की जगह बताओ,ड्रैगन किंग,फुटबॉल हिंदी नाम,बेटा वीडियो सॉन्ग,लॉटरी पंजाब result, .बेटी की उम्र 8 साल है, सुकन्या समृद्धि और पीपीएफ में से किसमें निवेश करना फायदेमंद?

सुकन्‍या समृद्धि योजना बेटियों के लिए सरकार की लोकप्रिय स्‍कीम है.
कविता मानती हैं कि निवेश का फैसला काफी जांच-परख के बाद ही करना चाहिए. इसके लिए सभी उपलब्ध विकल्पों की समीक्षा जरूरी है. लिहाजा, 8 साल की बेटी के लिए निवेश शुरू करने से पहले वह निवेश के रिटर्न, ब्‍याज दर, जोखिम, समयावधि जैसी बातों का ख्‍याल रखना चाहती हैं. पूंजी बढ़ाने के लिए सुकन्या समृद्धि योजना (एसएसवाई) और पब्लिक प्रोविडेंट फंड (पीपीएफ) को सबसे सुरक्षित निवेश विकल्प माना जाता है. कविता इन दोनों विकल्पों की तुलना करना चाहती हैं. उन्हें पता है कि दोनों पर सेक्शन 80सी के तहत 1.5 लाख रुपये तक टैक्‍स बेनिफिट उपलब्‍ध है. हालांकि, एसएसवाई पर ब्‍याज दर पीपीएफ की तुलना में अमूमन 0.5 फीसदी ज्यादा होती है. वह सोच में पड़ी हैं कि क्‍या एसएसवाई बेहतर विकल्प है.

सुकन्‍या समृद्धि योजना बेटियों के लिए सरकार की लोकप्रिय स्‍कीम है. इस स्‍कीम में बेटी के जन्‍म के बाद उसके नाम पर खाता खुलवाया जा सकता है. उसके 10 साल का होने तक ऐसा किया जा सकता है. खाता खुलने के बाद से बेटी के 21 साल का पूरा होने पर अकाउंट मैच्‍योर होता है. मैच्‍योरिटी तक ब्‍याज अर्जित करने के लिए खाता खुलने की तारीख से कविता को बेटी के 15 साल का होने तक हर साल न्‍यूनतम निवेश करने की जरूरत पड़ेगी. लेकिन, एसएसवाई में उनका पूरा पैसो बेटी के 18 साल का होने तक लॉक रहेगा. सच तो यह है कि बेटी के 18 साल का होने के बाद भी कविता निवेश का सिर्फ 50 फीसदी ही निकाल पाएंगी. बाकी की रकम वह तभी निकाल पाएंगी जब वह 21 साल की होगी.

इसे भी पढ़ें : मुझे रिटायरमेंट के लिए 19 साल में ₹1.24 करोड़ जुटाने हैं, कैसे प्लानिंग करूं?

सुकन्‍या समृद्धि योजना में अक्‍सर ब्‍याज की दर ज्‍यादा होती है. इसका कारण है कि यह स्‍कीम कविता जैसे माता-पिता को बेटी के भविष्‍य के लिए पैसा जुटाने को प्रोत्‍साहित करने के लिए है. हालांकि, डिपॉजिट बेटी के 15 साल का होने तक किया जा सकता है. 16वें साल से 21वें साल के बीच किसी डिपॉजिट की अनुमति नहीं है. हालांकि, अकाउंट पर ब्‍याज 21 साल तक मिलना जारी रहता है. लिहाजा, पैसे को लॉक होने के बावजूद 15 साल से आगे निवेश पर बंदिश है. यह पूंजी के जुटने की क्षमता पर रोक लगाता है.

दूसरी ओर पीपीएफ कविता को निवेश की अवधि पर बंदिशों के बगैर टैक्‍स-फ्री इंटरेस्‍ट अर्जित करने की सहूलियत देता है. इसमें लॉक-इन अवधि छोटी है और लंबी अवधि तक निवेश किया जा सकता है. पीपीएफ के ये फीचर कंपाउंडिंग अवधि के मामले में एसएसवाई जैसे ब्‍याज देने वाले प्रोडक्‍टों के फायदे को न्‍यूट्रलाइज करते हैं.

इसे भी पढ़ें : कैसा है फ्रैंकलिन इंडिया इक्विटी एडवांटेज फंड का 5 साल का रिपोर्ट कार्ड?

लिहाजा, कविता के निवेश का फैसला ज्‍यादा ब्‍याज दर से ही प्रभावित नहीं होना चाहिए. उनके पास सुकन्‍या समृद्धि में निवेश के लिए अपेक्षाकृत कम समय (7 साल) है. यह शायद उन्‍हें कंपाउंडिंग का उतना ज्‍यादा फायदा न लेने दे. कविता की बेटी की उम्र अगर और कम होती तो एसएसवाई वाकई शानदार विकल्‍प था. यह उन्‍हें स्‍कीम में निवेश के लिए ज्‍यादा समय देता. उस स्थिति में वह पीपीएफ की तुलना में ज्‍यादा पैसा जुटा पातीं.

इस पेज की सामग्री सेंटर फॉर इंवेस्टमेंट एजुकेशन एंड लर्निंग (सीआईईएल) के सौजन्य से. गिरिजा गादरे, आरती भार्गव और लब्धि मेहता का योगदान.

पैसे कमाने, बचाने और बढ़ाने के साथ निवेश के मौकों के बारे में जानकारी पाने के लिए हमारे फेसबुक पेज पर जाएं. फेसबुक पेज पर जाने के लिए यहां क्‍ल‍िक करें
(Disclaimer: The opinions expressed in this column are that of the writer. The facts and opinions expressed here do not reflect the views of www.economictimes.com.)

टॉपिक

Sukanya Samriddhi Yojanaसुकन्‍या समृद्ध‍ि योजनान‍िवेशबेटी के लिए बचतटैक्‍स बेनिफिटपीपीएफ

ETPrime stories of the day

PrimeTalk invite | Blurring the lines of retail.
Modern retail

PrimeTalk invite | Blurring the lines of retail.

2 mins read
Why Rivigo, which hired from all sectors, is zeroing in on seasoned logistics hands for its revival
Recent hit

Why Rivigo, which hired from all sectors, is zeroing in on seasoned logistics hands for its revival

11 mins read
Realty boom, capex cycle, Unitech’s fall: what pro-cyclical investors can learn from the past
Investing

Realty boom, capex cycle, Unitech’s fall: what pro-cyclical investors can learn from the past

14 mins read

उन्होंने कहा कि इस क्षेत्र के विभिन्न फॉर्मेट में चुनौतियों और अड़चनों को दूर करने के लिए सीआईआई के तहत खुदरा सेक्‍टर के लोगों का मानना है कि सरकार को एक मजबूत रिटेल पॉलिसी लानी चाहिए.पिछले 10 साल में ओएनजीसी अपने उत्पादन में कोई बड़ी बढ़ोतरी करने में नाकामयाब रही है.डॉ रेड्डीज लैब के शेयरों में क्‍यों निवेश की सलाह दे रहे हैं विश्लेषक?

समय गुजरने के साथ उन्‍हें इक्विटी में निवेश कम कर देना चाहिए. इसके बजाय धीरे-धीरे डेट फंडों की ओर रुख करना चाहिए.उन्होंने कहा कि इस क्षेत्र के विभिन्न फॉर्मेट में चुनौतियों और अड़चनों को दूर करने के लिए सीआईआई के तहत खुदरा सेक्‍टर के लोगों का मानना है कि सरकार को एक मजबूत रिटेल पॉलिसी लानी चाहिए.सुकन्‍या समृद्धि योजना के बारे में जानिए अपने हर सवाल का जवाब

महामारी से पहले की तुलना में मजदूरी 450-500 रुपये से बढ़कर 550-600 रुपये प्रति दिन हो गई है. वहीं, मजदूरों की उपलब्‍धता 70-75 फीसदी घटी है.उन्होंने कहा कि इस क्षेत्र के विभिन्न फॉर्मेट में चुनौतियों और अड़चनों को दूर करने के लिए सीआईआई के तहत खुदरा सेक्‍टर के लोगों का मानना है कि सरकार को एक मजबूत रिटेल पॉलिसी लानी चाहिए.सिर्फ 10% कर्मचारी ऑफिस लौटे : रिपोर्ट

पूरा पाठ विस्तारित करें
संबंधित लेख
स्पोर्ट्स एन फन

दिग्गज आईटी कंपनी टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज ने कोरोना वायरस महामारी के दौरान ग्रोथ देने के चलते साल 2021-22 के लिए कर्मचारियों की सैरली बढ़ाई है.

पंजीकरण पर बोनस के साथ बेटिंग साइट

समय गुजरने के साथ उन्‍हें इक्विटी में निवेश कम कर देना चाहिए. इसके बजाय धीरे-धीरे डेट फंडों की ओर रुख करना चाहिए.

खेल स्टेशन

चूंकि एफओएफ दूसरी म्‍यूचुअल फंड स्‍कीमों में निवेश करते हैं. लिहाजा, डुप्‍लीकेशन की कॉस्‍ट आ सकती है.

जैकपॉट ऑनलाइन मूवी

ईटीएफ नए निवेशकों के लिए अच्‍छा विकल्‍प है. इसके लिए डीमैट अकाउंट की जरूरत होगी.

10cric असली है

चूंकि एफओएफ दूसरी म्‍यूचुअल फंड स्‍कीमों में निवेश करते हैं. लिहाजा, डुप्‍लीकेशन की कॉस्‍ट आ सकती है.

संबंधित जानकारी
गरम जानकारी