लाइव रूले लैडब्रोक्स

लाइव रूले लैडब्रोक्स

time:2021-10-24 05:10:49 आईटी और रिटेल सेक्‍टर में मार्च में हुईंं ज्‍यादा भर्तियां : रिपोर्ट Views:4591

रम्मी आधुनिक लाइव रूले लैडब्रोक्स 188bet खो,casumo यूके लॉगिन,lovebet 11,lovebet एस्पोर्ट्स,lovebet क्विक्सास,lovebet-आ,बैकारेट 007,बैकारेट पंप नहीं है,बैकारेट के लिखने का तरीका,बेटिंग व्हाट्सएप ग्रुप लिंक,कैसीनो ड्राइव ब्रॉडबीच,टेक्सास में कैसीनो,क्रिकबज,क्रिकेट उद्धरण अंग्रेजी में,एस्पोर्ट्स हेडफोन ए1,फिशिंग रशफोर्ड लेक एनवाई,फुटबॉल टी-शर्ट ऑनलाइन दुकान,ग्लोबल रियल मनी ड्रैगन टाइगर,कैसे खोलें,आईपीएल जोमैटो,जंगल रम्मी मुफ्त डाउनलोड,गोवा में लाइव कैसीनो,लॉटरी बीसी,लूडो आईडी,o फुटबॉल की भविष्यवाणी आज और आज रात,ऑनलाइन गेम बोर्ड मेकर,ऑनलाइन पोकर एक्सबॉक्स,परिमच यूके रिव्यू,पोकर ऑनलाइन qq ceme,री कैसीनो टिवर्टन,नियम शून्य उत्पाद,रम्मीकल्चर नकली,स्लॉट मशीन विकिपीडिया,स्पोर्ट्स दा रोडडा,स्पोर्ट्सबुक्स,टेक्सस होल्डम यूडा गेम्स,यूईएफए चैंपियंस लीग फुटबॉल गोल्डन बूट्स क्रिस्टियानो रोनाल्डो,किस सट्टेबाज को छूट है,21 बजे dj,ऑनलाइन पैसे कैसे कमाए video,क्रिकेट इमेज,गोवा भाषा,तीन पत्ती प्रो,बकरी ऑनलाइन,बैकारेट quotes,स्टेटस अच्छा वाला, .आईटी और रिटेल सेक्‍टर में मार्च में हुईंं ज्‍यादा भर्तियां : रिपोर्ट

कोविड- 19 की दूसरी लहर को देखते हुए शिक्षा, अध्यापन क्षेत्र में मार्च महीने में नियुक्तियों में 13 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई.
मुंबई : आईटी-सॉफ्टवेयर और खुदरा क्षेत्र में रोजगार के अवसर बढ़ने की बदौलत मार्च में इससे पिछले महीने के मुकाबले नियुक्ति गतिविधियों में मामूली वृद्धि दर्ज की गई. फरवरी के 2,356 के मुकाबले मार्च 2021 में नौकरियों के विज्ञापन 2,436 दिखे.

नौकरी जॉबस्पीक्स इंडेक्स की ताजा रिपोर्ट के मुताबिक, डिजिटल बदलाव की लहर में सूचना प्रौद्योगिकी-सॉफ्टवेयर क्षेत्र लगातार इससे बचा हुआ है. इसमें मार्च के दौरान नियुक्तियों में 11 फीसदी की वृद्धि दर्ज की गई.

कोरोना वायरस महामारी के कारण खुदरा क्षेत्र पर बुरा प्रभाव पड़ा है. यह क्षेत्र भी फिर से उबरने की राह पर है जिसके तहत माह दर माह नियुक्तियों में पिछले महीने 15 फीसदी की वृद्धि हुई.

इसे भी पढ़ें : सैलरी और पर्क्‍स के पेमेंट के लिए कंपनियों ने शुरू किया क्रिप्‍टोकरेंसी का इस्‍तेमाल

नौकरी जॉबस्पीक एक मासिक सूचकांक है जो कि नौकरी डॉट कॉम वेबसाइट पर डाली जानी वाली नौकरियों के आधार पर नियुक्ति गतिविधियों की गणना करता है और उन्हें रिकॉर्ड करता है.

अर्थव्यवस्था के प्रमुख क्षेत्रों तेल एवं गैस में सात फीसदी, अकाउंटिंग-टैक्सेशन वित्त में छह फीसदी और दूरसंचार आईएसपी में नियुक्ति गतिविधियों में फरवरी के मुकाबले पांच फीसदी वृद्धि दर्ज की गई. वहीं दूसरी तरफ बीपीओ/आईटीईएस और बीएफएसआई में एक फीसदी की सामान्य स्थिति रही.

इसे भी पढ़ें : फ्रेशर्स के लिए मौका, कंपनियां बड़े पैमाने पर कर रही हैं भर्ती

कोविड- 19 की दूसरी लहर को देखते हुए शिक्षा, अध्यापन क्षेत्र में मार्च महीने में नियुक्तियों में 13 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई. वहीं त्वरित उपभोग वाले सामानों (एफएमसीजी) में 10 फीसदी और होटल, एयरलाइंस, यात्रा क्षेत्र में आठ फीसदी गिरावट दर्ज की गई.

देश के सभी छह महानगरों और दूसरी श्रेणी के प्रमुख शहरों में मार्च के महीने में माह-दर- माह आधार पर नियुक्तियों में वृद्धि हुई. लेकिन, इसमें कोलकाता, वड़ोदरा में क्रमश: तीन और दो फीसदी की गिरावट दर्ज की गई. वहीं, दूसरी श्रेणी के शहरों में अहमदाबाद में मार्च में सबसे ज्यादा 13 फीसदी वृद्धि की गई.

पैसे कमाने, बचाने और बढ़ाने के साथ निवेश के मौकों के बारे में जानकारी पाने के लिए हमारे फेसबुक पेज पर जाएं. फेसबुक पेज पर जाने के लिए यहां क्‍ल‍िक करें

टॉपिक

रोजगार के अवसरनियुक्ति गतिविधिखुदरा क्षेत्रनौकरी जॉबस्‍पीक इंडेक्‍सकोरोना वायरस

ETPrime stories of the day

As airlines inch back to normalcy, vacant middle seats are a cause of worry
Aviation

As airlines inch back to normalcy, vacant middle seats are a cause of worry

11 mins read
Q2 FY22 preview: Tariff hikes to push Airtel’s growth; Jio’s modest outlook as Vi fights for its turf
Telecom

Q2 FY22 preview: Tariff hikes to push Airtel’s growth; Jio’s modest outlook as Vi fights for its turf

9 mins read
After a robust rally, pharma stocks feel under the weather. But do they make a case for value buy?
Investing

After a robust rally, pharma stocks feel under the weather. But do they make a case for value buy?

9 mins read

जब संस्‍थान में किसी कर्मचारी को नौकरी छोड़ने के लिए कहा जाता है तो वे आमतौर पर चौंक जाते हैं. लेकिन, कई मामलों में इसके संकेत पहले से मिलने लगते हैं. बात सिर्फ इतनी होती है कि कर्मचारी इन संकेतों का मतलब समझकर सुधार की दिशा में कदम नहीं उठा पाते हैं. आइए, यहां ऐसे ही कुछ संकेतों के बारे में जानते हैं.जब संस्‍थान में किसी कर्मचारी को नौकरी छोड़ने के लिए कहा जाता है तो वे आमतौर पर चौंक जाते हैं. लेकिन, कई मामलों में इसके संकेत पहले से मिलने लगते हैं. बात सिर्फ इतनी होती है कि कर्मचारी इन संकेतों का मतलब समझकर सुधार की दिशा में कदम नहीं उठा पाते हैं. आइए, यहां ऐसे ही कुछ संकेतों के बारे में जानते हैं.कंस्‍ट्रक्‍शन सेक्‍टर में दिहाड़ी मजदूरी बढ़ी, यह है वजह

दिग्गज आईटी कंपनी टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज ने कोरोना वायरस महामारी के दौरान ग्रोथ देने के चलते साल 2021-22 के लिए कर्मचारियों की सैरली बढ़ाई है.एनपीएस अकाउंट खोलते वक्त सब्सक्राइबर्स को विकल्प दिया जाता है. वे चाहें तो विभिन्न एसेट क्लास में खुद पैसा लगाएं. या फिर ऑटो च्‍वाइस ऑप्शन चुनें.एनपीएस में निवेश किया है? जानिए एसेट एलोकेशन में कैसे करें बदलाव

देश में क्रिप्‍टोकरेंसी को लेकर स्थिति बहुत साफ नहीं है. कर्मचारी और कंपनियां दोनों इसे लेकर टैक्‍स के बारे में चिंतित हैं.सर्वे में 20 से ज्‍यादा इंडस्‍ट्रीज की 1,200 कंपनियों की प्रतिक्रिया ली गई. इनमें से 1,000 ने इस साल वेतनवृद्धि के लिए कहा है.मुझे रिटायरमेंट के लिए 19 साल में ₹1.24 करोड़ जुटाने हैं, कैसे प्लानिंग करूं?

पूरा पाठ विस्तारित करें
संबंधित लेख
ऑनलाइन जुए के मामले

ईटीएफ नए निवेशकों के लिए अच्‍छा विकल्‍प है. इसके लिए डीमैट अकाउंट की जरूरत होगी.

पोकर फ्लश

एनपीएस अकाउंट खोलते वक्त सब्सक्राइबर्स को विकल्प दिया जाता है. वे चाहें तो विभिन्न एसेट क्लास में खुद पैसा लगाएं. या फिर ऑटो च्‍वाइस ऑप्शन चुनें.

स्टेटस औकात

उन्होंने कहा कि इस क्षेत्र के विभिन्न फॉर्मेट में चुनौतियों और अड़चनों को दूर करने के लिए सीआईआई के तहत खुदरा सेक्‍टर के लोगों का मानना है कि सरकार को एक मजबूत रिटेल पॉलिसी लानी चाहिए.

lovebet फ्लैशबैक

पिछले 10 साल में ओएनजीसी अपने उत्पादन में कोई बड़ी बढ़ोतरी करने में नाकामयाब रही है.

जंगली rummy

डेट म्‍यूचुअल फंडों की कई कैटेगरी हैं. मनी मार्केट म्‍यूचुअल फंड उनमें से एक है. ये स्‍कीमें उन लोगों के लिए मुफीद होती हैं जो अपने निवेश के साथ बहुत कम जोखिम लेना चाहते हैं. चूंकि ये स्‍कीमें छोटी अवधि के इंस्‍ट्रूमेंट में पैसा लगाती हैं. इसलिए इन पर अर्थव्‍यवस्‍था में ब्‍याज दर में होने वाले बदलाव का ज्‍यादा असर नहीं पड़ता है. मनी मार्केट इंस्‍ट्रूमेंट के साथ कम जोखिम होने के कारण भी इनमें निवेश अपेक्षाकृत सुरक्षित होता है. आइए, यहां इनके बारे में कुछ जरूरी बातों को जानते हैं.

संबंधित जानकारी
गरम जानकारी